[500+] Gautam Buddha Quotes in Hindi | गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में (2022)

If you are looking for Gautam Buddha Quotes In Hindi then you are landed in right place, in this post we have more than 500+ गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में Also, Gautam Buddha Precious Thoughts, Gautam Buddha Inspirational Quotes, Gautam Buddha Suvichar, Gautam Buddha Thoughts, Gautam Buddha Motivation Quotes, Lord Buddha Quotes, Buddha Quotes with Images, Famous Buddha Quotes, Good Morning Buddha Quotes, Gautam Buddha Quotes on Love, Buddha Quotes on Karma, Gautam Buddha Quotes on Life, Buddha Quotes on Friendship, Gautam Buddha Quotes on Education, Gautam Buddha Quotes on Trust, Best Gautam Buddha Quotes, Buddha Quotes on Silence, Gautam Buddha Quotes on Anger and more.

अगर आप गौतम बुद्ध के उद्धरण हिंदी में खोज रहे हैं तो आप सही जगह पर आए हैं, इस पोस्ट में हमारे पास 500+ से अधिक गौतम बुद्ध जयंती हैं, साथ ही, गौतम बुद्ध अनमोल विचार, गौतम बुद्ध प्रेरणादायक उद्धरण, गौतम बुद्ध सुविचार, गौतम बुद्ध विचार, गौतम बुद्ध प्रेरणा उद्धरण, भगवान बुद्ध उद्धरण, छवियों के साथ बुद्ध उद्धरण, प्रसिद्ध बुद्ध उद्धरण, सुप्रभात बुद्ध उद्धरण, प्रेम पर गौतम बुद्ध उद्धरण, कर्म पर बुद्ध उद्धरण, जीवन पर गौतम बुद्ध उद्धरण, दोस्ती पर बुद्ध उद्धरण, गौतम बुद्ध उद्धरण शिक्षा पर, गौतम बुद्ध विश्वास पर उद्धरण, सर्वश्रेष्ठ गौतम बुद्ध उद्धरण, मौन पर बुद्ध उद्धरण, क्रोध पर गौतम बुद्ध उद्धरण और बहुत कुछ।

Contents

Gautam Buddha Quotes in Hindi | गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में

इच्छाओ का कभी अंत नहीं होता,
अगर आप की एक इच्छा पूरी होती है,
तो दूसरी तुरंत जन्म ले लेती है।

हर अनुभव कुछ न कुछ सिखाता है। इसलिए हर अनुभव महत्वपूर्ण है। हम अपनी गलतियों से ही सीखते है।

कोई तुम्हारे कंधे पर हाथ रखता है,
तो तुम्हारा हौसला बढ़ता है,
पर जब किसी का हाथ कंधे पर नहीं होता,
तुम अपनी शक्ति खुद बन जाते हो
और वही शक्ति ईश्वर है।

पढ़ना कभी भी बंद ना करें, क्योंकि ज्ञान की कोई सीमा नहीं होती।

स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है,
संतोष सबसे बड़ा धन है,
वफ़ादारी सबसे बड़ी संबंध है।

जैसे मोमबत्ती बिना आग के नहीं जल सकती। मनुष्य भी आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं जी सकता।

वह हमने आज तक क्या सोचा इस बात का परिणाम है,
यदि कोई व्यक्ति बुरी सोच के साथ बोलता या काम करता है,
तो उसे कष्ट ही मिलता है,
यदि कोई व्यक्ति शुद्ध विचारों के साथ बोलता या काम करता है,
तो उसकी परछाई की तरह खुशी उसका साथ कभी नहीं छोड़ती।

संसार में कोई भी चीज कभी भी अकेले मौजूद नहीं होती। हर एक चीज का संबंध तमाम दूसरी चीजों से होता है।

अपना रास्ता स्वयं बनाएं क्योंकि हम अकेले पैदा होते हैं
और अकेले ही मृत्यु को प्राप्त होते हैं,
इसलिए हमारे अलावा कोई और
हमारी किस्मत का फैसला नहीं कर सकता।

जूनून जैसी कोई आग नहीं है, नफरत जैसा कोई दरिंदा नहीं है, मूर्खता जैसी कोई जाल नहीं है, लालच जैसी कोई धार नहीं है।

Gautam Buddha Precious Thoughts | गौतम बुद्ध अनमोल विचार

“ज़िन्दगी में हज़ारों लड़ाइयाँ जीतने से अच्छा है खुद को जीत लेना।
फिर जीत हमेशा तुम्हारी होगी, इसे तुमसे कोई नहीं छीन सकता।”

“जो आपके पास है उसे बढ़ा-चढ़ा कर मत बोलो और न ही दूसरों से ईर्ष्या करो।
जो दूसरों से ईर्ष्या करता है उसे मन की शांति नहीं मिलती।”

“खुशी इसका बहुत अधिक होने के बारे में नहीं है।
खुशी दूसरों को बहुत अधिक देने के बारे में है”

“गुस्से में हज़ारों शब्द भूल जाने से अच्छा है,
मौन एक ऐसा शब्द है जो जीवन में शांति लाता है।”

“मन ही सब कुछ है, आप जैसा सोचते हैं, वैसे ही बन जाते हैं।”

“जीवन में किसी भी उद्देश्य या लक्ष्य तक पहुँचने से ज्यादा महत्वपूर्ण है उस यात्रा को अच्छे से पूरा करना।”

“हर दिन एक नया दिन है चाहे कल कितना भी मुश्किल क्यों न हो।
आप हमेशा एक नई शुरुआत कर सकते हैं।”

“स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है,
संतुष्टि सबसे बड़ी संपत्ति है और वफादारी सबसे अच्छा रिश्ता है।”

“बुराई से बुराई कभी खत्म नहीं होती।
नफरत को सिर्फ प्यार से ही मिटाया जा सकता है,
यह एक अटूट सत्य है।”

“यदि आप किसी और के लिए दीया जलाते हैं,
तो यह आपका मार्ग भी रोशन करेगा।”

Gautam Buddha Inspirational Hindi Quotes | गौतम बुद्ध प्रेरणादायक हिंदी उद्धरण

सृष्टि कितनी भी बदल जाये
हम सुखी नहीं हो सकते
पर
दृष्टि जरा सी बदल जाये
तो हम सुखी हो सकते हैं .
आपका दिन मंगलमय हो….

किसी के साथ रहो तो
वफादार बनके रहो, धोखा
देना गिरे हुए लोगों की
पहचान है।

स्वभाव भी इंसान की अपनी कमाई हुयी सबसे बड़ी दौलत है.
कितना भी किसी से दूर हों, पर अच्छे स्वभाव के कारण
आप किसी न किसी पल
यादों में आ ही जाते हो।

ताकत की जरुरत तभी होती है
जब कुछ बुरा करना हो
वरना दुनियां में
जब कुछ
पाने के लिए
प्रेम ही काफी है।

अपने जीवन में इतने
खुश रहो
की अगर कोई दूसरा
आपको देखे
तो वो भी खुश हो जाए.

किसी को अपना बनाओ
तो “दिल” से बनाओ..
जुबान” से नहीं।
और किसी पर गुस्सा करो
तो “जुबान” से करो….

शरीर में कोई सुंदरता नहीं होती है ?
सुंदर होते है: मनुष्य के
अच्छे कर्म
अच्छे विचार
अच्छी वाणी
अच्छा व्यवहार
अच्छे संस्कार।

किसी का अपमान करने से
पहले सोच लो कि आप
अपना सम्मान खोने जा रहे हैं।

न ही सुख स्थायी और
न ही दुख।
बुर समय आने पर उसका
दटकर सामना करना चाहिए
औट हमेशा रोशनी की
तलाश करनी चाहिए।

जो समय मिला है
उसी को अच्छा बनाएं
अगर अच्छे समय की राह देखेंगे तो
पूरा जीवन कम पड़ जायेगा।

Gautam Buddha Suvichar in Hindi | हिंदी में गौतम बुद्ध सुविचार

कोई मेरा बुरा करे वो कर्म उसका,
मैं किसी का बुरा ना करूँ यह धर्म मेरा।

अतीत पर ध्यान मत दो,
भविष्य के बारे में मत सोचो,
अपने मन को वर्तमान क्षण में केंद्रित करो।

परिवर्तन से डरे नहीं आप कुछ अच्छा खो सकते हैं,
लेकिन आप कुछ बेहतर पा भी सकते हैं।

अपनी उम्र और पैसों पर कभी घमंड मत करना,
क्योंकि जो चीजें गिनी जा सके वह यकीनन ख़तम होती है।

फिर से प्रयास करने से कभी मत घबराना,
क्योंकि इस पर शुरुआत शून्य से नहीं,
अनुभव से होगी।

ख़ुशियों का कोई रास्ता नहीं,
खुश रहना ही रास्ता है।

क्रोध को पाले रखना,
गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने
की नियत से पकड़े जाने के समान है,
इसमें आप भी जलते हैं।

जिसने अपनी इच्छाओं पर काबू पा लिया,
उस मनुष्य ने जीवन के दुखों पर काबू पा लिया।

शक एक ला इलाज बीमारी है,
यह अच्छे से अच्छे रिश्ते
और दोस्ती को भी
दीमक की तरह चाट जाती है।

हजारों शब्दो से अच्छा वह एक शब्द है,
जो शांति लाता है।

Gautam Buddha Thoughts in Hindi | हिंदी में गौतम बुद्ध के विचार

मन का झुकना बहुत जरूरी है,
केवल सर झुकाने से भगवान नहीं मिलते।

“आकाश में पूरब और पश्चिम का कोई भेद नहीं है,
लोग अपने मन में भेदभाव को जन्म देते हैं और फिर यह सच है ऐसा विश्वास करते हैं।”

झूठ का कोई भविष्य नहीं,
वह आपका आज शायद सुखद करें,
पर कल तो बिल्कुल नहीं।

“आप पूरे ब्रह्माण्ड में कहीं भी ऐसे व्यक्ति को खोज लें जो आपको आपसे ज्यादा प्यार करता हो,
आप पाएंगे कि जितना प्यार आप खुद से कर सकते हैं उतना कोई आपसे नहीं कर सकता ।”

अपना रास्ता स्वंय बनाएं – हम अकेले पैदा होते हैं और अकेले मृत्यु को प्राप्त होते हैं,
इसलिए हमारे अलावा कोई और हमारी किस्मत का फैसला नहीं कर सकता।”

“असल जीवन की सबसे बड़ी विफलता है,
हमारा असत्यवादी होना।”

बहुत ज्यादा भरोसा मत करो,
बहुत ज्यादा प्यार मत करो,
बहुत ज्यादा उम्मीद मत करो।

“अपने शरीर को स्वस्थ रखना भी एक कर्तव्य है,
अन्यथा आप अपनी मन और सोच को अच्छा और साफ़ नहीं रख पाएंगे।”

ज्ञानी व्यक्ति कभी नहीं मरते
और जो नासमझ है वो तो पहले से मरे हुए हैं।

Gautam Buddha Motivation Quotes In Hindi | गौतम बुद्ध प्रेरणा उद्धरण हिंदी में

शक्ति चाहिए तो ज्ञान हासिल करो,
और सम्मान चाहिए तो चरित्र अच्छा करो।

आप अपना भविष्य नहीं बदल सकते हैं,
लेकिन आप अपनी आदतों को बदल सकते हैं,
क्योंकि बदली हुई आदते ही आपका भविष्य बदलेगी।

जीवन वह नहीं है जो हमें मिला है,
जीवन वह है जो हम बनाते हैं।

क्रोध को प्यार से,
बुराई को अच्छाई से,
स्वार्थी को उदारता से
और झूठे व्यक्ति को सच्चाई से
जीता जा सकता है।

जिस दिन हम यह समझ जाएंगे कि सामने वाला गलत नहीं है,
सिर्फ उसकी सोच हमसे अलग है,
उस दिन जीवन से सब दुख समाप्त हो जाएगा।

कुछ पाना है तो खुद पर भरोसा कीजिए,
सहारे कितने भी अच्छे और अच्छे क्यों ना हो
एक दिन साथ छोड़ ही जाते हैं।

परमात्मा कभी किसी का भाग्य नहीं लिखता,
जीवन के हर कदम पर हमारी सोच हमारा व्यवहार
और हमारे कर्म ही हमारा भाग्य लिखते हैं।

हमारा मन ही सब कुछ है,
जैसा हम सोचते हैं,
वैसा ही बनते जाते हैं।

जीवन मिलना भाग्य की बात है,
मृत्यु होना समय की बात है,
पर मृत्यु के बाद भी लोगों के दिलों में जीवित रहना,
ये कर्मों की बात है।

ताकत की जरूरत तभी होती है,
जब कुछ बुरा करना हो,
वरना दुनिया में सब कुछ पाने के लिए प्रेम ही काफी है।


Lord Buddha Quotes in Hindi | भगवान बुद्ध हिंदी में उद्धरण

अपना हृदय अच्छी चीजें करने में लगाओ।
इसे बार-बार करो और तुम प्रसन्नता से भर जाओगे।

आप तभी खुश रह सकते है।
जब बीत गयी बातों को भुला देते है।

अपने अहंकार को एक ढीले-ढाले कपड़े की तरह पहनें।

झूठे व्यक्ति की ऊँची आवाज,
सच्चे व्यक्ति को चुप करवा देती है।
लेकिन सच्चे व्यक्ति का मौन,
झूठे व्यक्ति की जड़े हिला देती है।

अकेले रहना कहीं अच्छा है।
बैगर उन लोगों के साथ में रहने से जो आपकी प्रगति में बाधा डालते है।

यदि एक पवित्र मन के साथ कोई व्यक्ति बोलता या काम करता है।
तो कभी न जाने वाली परछाई की तरह खुशी उसका पीछा करती है।

दूसरों पर निर्भर रहने के बजाए।
अपना काम खुद से करना चाहिए।

जैसे ठोस चट्टान हवा से नहीं हिलती,
उसी प्रकार बुद्धिमान व्यक्ति प्रशंसा या आरोपों से विचलित नहीं होता।

नेक लोगों की संगत से हमेशा भलाई ही मिलती है,
क्योंकि हवा जब फूलों से गुजरती है।
तो वो भी खुसबूदार हो जाती है।

इस संसार में सभी को अपने ज्ञान का अहंकार है।
परन्तु किसी को भी अपने अहंकार का ज्ञान ही नहीं।


Buddha Quotes in Hindi with Images | बुद्ध उद्धरण हिंदी में छवियों के साथ

ज्ञान ध्यान से पैदा होता है और ध्यान के बिना ज्ञान खो जाता है।

“निश्चित रूप से जो नाराजगी के विचार से मुक्त रहते हैं,
वहीं जीवन में शांति पाते हैं”

“ईर्ष्या और नफरत की आग में जलते हुए,
इस संसार में खुशी और हंसी स्थाई नहीं हो सकतीं हैं”

“मार्ग आकाश में नहीं है,
मार्ग अपने हृदय में है”

“बुराइयों से दूर रहने के लिए,
अच्छाइयों का विकास कीजिए और अपने मन को अच्छे विचारों से भर लीजिए”

“अगर आप अंधैरे में डूबे हुए हैं,
तो आप प्रकाश की तलाश क्यों नहीं करते”

चंद्रमा के जैसे बादलों के पीछे से निकलो और फिर चमक जाओ।

एक पल एक दिन को बदल सकता है,
एक दिन एक जीवन को बदल सकता है,
और एक जीवन इस दुनिया को बदल सकता है।

मन सभी मानसिक अवस्थाओं से ऊपर होता है।

मंजिल या लक्ष्य तक पहुँचने से ज्यादा महत्वपूर्ण,
यात्रा अच्छे से करना होता है।

Famous Buddha Quotes in Hindi | प्रसिद्ध बुद्ध उद्धरण हिंदी में

यहाँ (इस लोक में) शोक करनेवाला, पाप करनेवाला (व्यक्ति) दोनों जगह शोक करता है।
वह अपने कर्मों की मलिनता देखकर शोकापन्न होता है, संतापित होता है।

उद्योगशील, स्मृतिमान, शुची (दोषरहित) कर्म करनेवाले,
सोच-समझकर काम करनेवाले, संयमी,
धर्म का जीवन जीनेवाले, अप्रमत्त (व्यक्ति) का यश खूब बढ़ता है।

जो यहाँ (इस लोक) में संतप्त होता है,
प्राण छोड़कर (परलोक में) संतप्त होता है,
पापकारी दोनों जगह संतप्त होता है,
मैंने पाप किया है-इस (चिंतन) से संतप्त होता है
(और) दुर्गति को प्राप्त होकर और भी (अधिक) संतप्त होता है।

प्रमाद न करना अमृत (निर्वाण) का पद है और मृत्यु का प्रमाद न करनेवाले (कभी) मरते नहीं,
जबकि मृत्यु प्रमादी (तो) मरे सामान होते हैं।

जो यहाँ (इस लोक) में आनंदित होता है,
प्राण छोड़कर (परलोक में) आनंदित होता है, पुण्यकारी दोनों जगह आनंदित होता है,
मैंने पुण्य किया है-इस (चिंतन) से आनंदित होता है
(और) सुगति को प्राप्त होकर और भी (अधिक) आनंदित होता है।

धर्मग्रंथों (त्रिपिटक) का कितना ही पाठ करें,
लेकिन यदि प्रमाद के कारण मनुष्य उन धर्मग्रंथों के अनुसार आचरण नहीं करता तो दूसरों की गायों को गिननेवाले ग्वालों की तरह वह श्रृमणत्व का भागी नहीं होता।

धर्मग्रंथों (त्रिपिटक) का भले थोड़ा ही पाठ करें,
लेकिन यदि वह (व्यक्ति) धर्म के अनुकूल आचरण करनेवाला होता है,
तो राग, द्वेष और मोह को त्यागकर,समप्रज्ञानी बन,
भली प्रकार विमुक्ति चितवाला होकर इहलोक अथवा परलोक में कुछ आसक्ति न करता हुआ श्रृमणत्व का भागी हो जाता है।

सतत ध्यान करनेवाले,
नित्य दृढ़ पराक्रम करनेवाले,
धीर पुरुष उत्कृष्ट योगक्षेमवाले निर्वाण को प्राप्त (अर्थात्, इसका साक्षात्कार) कर लेते हैं।

ज्ञानीजन अप्रमाद के बारे में इस प्रकार विशेष रूप से जानकर आर्यों की गोचर भूमि में रमण करते हुए अप्रमाद में प्रमुदित होते हैं।

जो यहाँ (इस लोक में) प्रसन्न होता है,वह मृत्यु के बाद भी प्रसन्न होता है,
पुण्य करनेवाला (व्यक्ति) दोनों जगह प्रसन्न होता है।
वह अपने कर्मों की शुद्धता देखकर मुदित होता है,
प्रमुदित होता है।

Good morning Buddha Quotes in Hindi | सुप्रभात बुद्ध उद्धरण हिंदी में

प्रमाद न करने से, जागरूक रहने से अमृत का पद मिलता है,
निर्वाण मिलता है। प्रमाद करने से आदमी बे- मौत मरता है।
अप्रमादी नहीं मरते। प्रमादी तो जीते हुए भी मरे जैसे हैं।

प्रमाद में मत फँसो। भोग-विलास में मत फँसो ।
कामदेव के चक्कर में मत फैसो।
प्रमाद से दूर रहकर ध्यान में लगनेवाला व्यक्ति महासुख प्राप्त करता है।

तृष्णा की नदियाँ मनुष्य को बहुत प्यारी और मनोहर लगती हैं।
जो इनमें नहाकर सुख खोजते हैं, उन्हें बार -बार जन्म,
मरण और बुढ़ापे के चक्कर में पड़ना पड़ता है।

लोहे का बंधन हो, लकड़ी का बंधन हो,
रस्सी का बंधन हो, इसे बुद्धिमान लोग बंधन नहीं मानते।
इनसे कड़ा बंधन तो सोने का, चाँदी का, मणि का, कुंडल का, पुत्र का, स्त्री का है।

गृहस्थ के कर्तव्य इस प्रकार हैं
जिस आर्य श्रावक (गृहस्थ) को छह दिशाओं की पूजा करनी हो,
वह चार कर्म-क्लेशों से मुक्त हो जाए।
जिन चार कारणों के वश होकर मूढ़ मनुष्य पाप कर्म करने में प्रवृत्त होता है,
उनमें से उसे किसी भी कारण के वश में नहीं होना चाहिए और संपत्ति-नाश के उसे छहों दरवाजे बंद कर देने चाहिए।

कंजूस आदमी देवलोक में नहीं जाते।
मूर्ख लोग दान की प्रशंसा नहीं करते।
पंडित लोग दान का अनुमोदन करते हैं।
दान से ही मनुष्य लोक-परलोक में सुखी होता है।

गृहस्थ को चाहिए कि वह किसी प्राणी की हिंसा न करे,
चोरी न करे, असत्य न बोले, शराब आदि मादक पदार्थों का सेवन न करे,
व्यभिचार से बचे और रात्रि में असमय भोजन न करे।

मन ही सारी प्रवृत्तियों का अगुवा है।
प्रवृत्तियाँ मन से ही आरंभ होती हैं।
यदि मनुष्य शुद्ध मन से बोलता है या कोई काम करता है,
तो सुख उसी तरह उसका पीछा करता है,
जिस तरह मनुष्य के पीछे उसकी छाया।

मन ही सारी प्रवृत्तियों का अगुवा है।
प्रवृत्तियों का आरंभ मन से ही होता है।
वे मनोमय हैं। जब कोई आदमी दूषित मन से बोलता है
या वैसा कोई काम करता है तो दुःख उसका पीछा उसी तरह करता है,
जिस तरह बैलगाड़ी के पहिए बैल के पैरों का पीछा करते हैं।


Gautam Buddha Quotes on Love in Hindi | प्यार पर गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में

आप खुद अपने प्यार और स्नेह के उतने ही हकदार है।
जितना इस दुनिया में कोई भी अन्य व्यक्ति है।

जो व्यक्ति स्वयं से प्रेम करता है।
वो किसी और को दुखी नहीं देख सकता और नाही किसी को दुखी कर सकता है।

सच्चा प्यार समझदारी से ही पैदा होता है।

सच्चा प्रेम बंधनों में बाँधता नहीं,
बंधनों से आजाद करता है।

ताकत की जरूरत तभी होती है,
जब कुछ बुरा करना हो।
वरना दुनिया में सब कुछ पाने के लिए प्रेम ही काफी है।

Buddha Quotes on Karma in Hindi | कर्म पर बुद्ध उद्धरण हिंदी में

खुशी अपने से नहीं,
बल्कि हमारे अच्छे कर्मों से मिलती है।

पूजा करने से धर्म का कोई भी संबंध नही हैं
धर्म का संबंध हैं –
शांत होने से, मौन होने से, शून्य होने से।

जीवन मिलना भाग्य की बात है,
मृत्यु होना समय की बात है।
पर मृत्यु के बाद भी लोगो के दिलों में जीवित रहना ये कर्मों की बात है।

आपको जो कुछ मिला हैं
उस पर घमंड न करो और न ही ईर्ष्या करो
घमंड और ईर्ष्या करने वाले
लोगों को कभी मन की शांति नही मिलती।

अच्छे कर्म करके उसे भूल जाना एक महान व्यक्ति की पहचान है।

मनुष्य को अपने लक्ष्य में कामयाब होने के लिए
खुद पर विश्वाश होना बहुत जरुरी हैं।

कोई मेरा बुरा करे वह कर्म उसका,
मैं किसी का बुरा न करू यह धर्म मेरा।

ताकत की जरुरत तभी होती हैं
जब कुछ बुरा करना हो
वरना दुनियां में सब कुछ पाने के लिए प्रेम ही काफी हैं।

कोई भी पुरुष अपने कर्मों से महान बनता है,
अपने जन्म से नहीं।

जिस तरह से तूफान
एक मजबूत पत्थर को हिला नही पता
उसी तरह से महान व्यक्ति
तारीफ या आलोचना से प्रभावित नही होते।


Gautam Buddha Quotes on Life | जीवन पर गौतम बुद्ध उद्धरण

हर सुबह हम पुनः जन्म लेते है।
हम आज क्या करते है वह सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।

अपने जीवन में इतने खुश रहो की अगर कोई दूसरा आपको देखे। तो वो भी खुश हो जाए।

यदि हम स्पष्ट रूप से एक फूल के चमत्कार को देख सकें।
तो हमारा जीवन बदल जाएगा।

आज हम जो करते है जीवन में वही सबसे ज्यादा मायने रखता है।

जीवन में आपका उद्देश्य अपना उद्देश्य पता करना है
और उसमे पूरे दिल-आत्मा से जुट जाना है।

आप चाहे जितनी भी किताबें पढ़ ले
कितने भी अच्छे शब्द सुन ले
उनका कोई फायदा नही
जब तक की आप उनको अपने जीवन में नही अपनाते।

जीवन में कभी-कभी आपको सिर्फ एक गले लगाने की जरूरत होती है। कोई शब्द नहीं,
कोई सलाह नहीं, आपको बेहतर मेहसूस कराने के लिए सिर्फ एक आलिंगन।

शांति हमारे भीतर हैं !
जब मन भटकना बंद कर देता हैं तब शांति का अनुभव होता हैं।

बुद्धिमानी से जीने वाले को मौत से डर नहीं लगता है।

जीवन वह नही हैं जो हमें मिला हैं
जीवन वह हैं जो हम बनाते हैं।

असल जीवन की सबसे बड़ी विफलता है,
हमारा असत्यवादी होना।

संदेह या शक की आदत से भयानक कुछ भी नही हैं
संदेह लोगो को अलग करता हैं और शक मित्रता को तोड़ता हैं।


Buddha Quotes on Friendship in Hindi | बुद्ध उद्धरण हिंदी में दोस्ती पर

 

किसी जानवर के अपेक्षा एक कपटी और दुष्ट मित्र से ज्यादा डरना चाहिए।
जानवर तो बस आपके शरीर को नुक्सान पहुँचा सकता है।
पर बुरा मित्र आपकी बुद्धि को नुक्सान पहुँचा सकता है।


Gautam Buddha Quotes on Education | गौतम बुद्ध शिक्षा पर उद्धरण

अज्ञानी व्यक्ति एक बैल के समान है।
वह ज्ञान में नहीं, आकार में बढ़ता है।

मेरी शिक्षा कोई दर्शनशास्त्र नहीं है। प्रत्यक्ष अनुभव का परिणाम है…
मेरा शिक्षण अभ्यास का एक साधन है, न कि धारण करने या पूजा करने के लिए।
मेरी शिक्षा उस बेड़ा की तरह है जिसका उपयोग नदी पार करने के लिए किया जाता है।
मुक्ति के दूसरे किनारे पर पहुंचने के बाद केवल एक मूर्ख ही बेड़ा ले जाएगा।

जैसे कच्ची छत में जल भरता है।
वैसे ही अज्ञानी के मन में कामनाएँ जमा होती है।

जैसे महान महासागरों में केवल एक स्वाद होता है, नमक का स्वाद,
वैसे ही रास्ते की सभी सच्ची शिक्षाओं के लिए एक ही स्वाद होता है,
और यह स्वतंत्रता का स्वाद है।

ज्ञानी व्यक्ति की कभी भी मृत्यु नहीं होती है।
वे अपने ज्ञान का प्रकाश हमेशा बिखेरते रहते है।
जबकि मूर्ख और अज्ञानी व्यक्ति पहले से ही अपने विचारों से मरे होते है।

मनुष्य को पहले स्वयं को उस मार्ग पर निर्देशित करना चाहिए
जिस पर उसे जाना चाहिए।
तभी उसे दूसरों को निर्देश देना चाहिए।

जो मुझे देखता है, वह उपदेश को देखता है,
और जो उपदेश को देखता है, वह मुझे देखता है।

अज्ञानी लोगों की बताई बातों पर चलने से,
जीवन व्यर्थ हो जाता है।

बुराई से बचना,
अच्छा करना और मन को स्वयं शुद्ध करना,
यही सभी बुद्धों की शिक्षा है।


Gautam Buddha Quotes on Trust | ट्रस्ट पर गौतम बुद्ध उद्धरण

विश्वास के बिना आप कहीं भी नहीं पहुँच सकते।
इसलिए अगर आप धर्म को पाना चाहते है।
तो विश्वास बहुत जरूरी है।

जो आपको
समझ नहीं पा रहे है
आप उन्हें समझा सकते है
मगर जो आपको
समझना ही नही चाहते
आप उन्हें
कभी नहीं समझा सकते।”

हमेशा सोच समझकर ही दूसरों पर भरोसा करें।

Best Gautam Buddha Quotes in Hindi| सर्वश्रेष्ठ गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में|

मनुष्य क्रोध को प्रेम से, पाप को सदाचार से,
लोभ को दान से और झूठ को सत्य से जीत सकता है।

सात सागरों में जल की अपेक्षा मानव के नेत्रों से कहीं अधिक आँसू बह चुके।

हजार योद्धाओं पर विजय पाना आसान है,
लेकिन जो अपने ऊपर विजय पाता है,
वही सच्चा विजयी है।

अभिलाषा सब दुःखों का मूल है।

पुष्प की सुगंध वायु के विपरीत कभी नहीं जाती,
लेकिन मानव के सद्गुण की महक सब ओर फैल जाती है।

जो नसीहत नहीं सुनता उसे लानत-मलामत सुनने का शौक होना चाहिए।

घृणा घृणा से कभी कम नहीं होती,
प्रेम से ही होती है।

पाप का संचय ही दुःखों का मूल है।

हम जो कुछ भी हैं वह हमने आज तक क्या सोचा इस बात का परिणाम है।
यदि कोई व्यक्ति बुरी सोच के साथ बोलता या काम करता है,
तो उसे कष्ट ही मिलता है। यदि कोई व्यक्ति शुद्ध विचारों के साथ बोलता या काम करता है,
तो उसकी परछाई की तरह खुशी उसका साथ कभी नहीं छोड़ती।

जो अपने ऊपर विजय प्राप्त करता है वही सबसे बड़ा विजयी है।


Buddha Quotes on Silence in Hindi | बुद्ध उद्धरण हिंदी में मौन पर

शांति अंदर से आती है। इसे बाहर मत खोजो।

अहिंसा ही सबसे बड़ा धर्म है।
जो सबके कल्याण की कामना करता है।

गुस्से में आदमी को प्यार से चुप कराओ।
दुष्ट व्यक्ति को दया से चुप कराओ।
कंजूस को उदारता से चुप कराओ।
झूठ को सच से चुप कराओ।

सबसे अच्छा सबक जो आप जीवन में सीख सकते है,
वह है कि कैसे शांत रहना है।

तुम कांटे फेंकते हो,
मेरी खामोशी में गिरकर वे फूल बन जाते हैं।

अपने मन को महान मौन में लाओ।
अपने मन को महान मौन में एकीकृत करें।
अपने मन को महान मौन में एकाग्र करें… एकाग्रता और जागरूकता से उत्पन्न मौन
से उत्पन्न उत्साह और आनंद में प्रवेश करें जो विचार और निर्माण से मुक्त है।

मौन की पूछताछ मत करो, क्योंकि मौन मौन है।
देवताओं से कुछ भी उम्मीद नहीं करना चाहिए,
न ही उन्हें उपहारों के साथ रिश्वत देने की कोशिश करनी चाहिए,
क्योंकि यह अपने आप में है कि हमें मुक्ति की तलाश करनी चाहिए।


Gautam Buddha Quotes on Anger in Hindi | क्रोध पर गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में

जब तक आपके मन में नाराजगी है।
तब तक आप अपने क्रोध को नहीं मिटा सकते।

क्रोध में हजारों शब्दो को गलत बोलने से अच्छा,
मौन वह एक शब्द है जो जीवन में शांति लाता है।

जो क्रोधित विचारों से मुक्त है।
उन्हें निश्चय ही शांति प्राप्त होगी।

किसी विवाद में हम जैसे ही क्रोधित होते हैं हम सच का मार्ग छोड़ देते हैं,
और अपने लिए प्रयास करने लगते हैं।”

हम जब भी गुस्सा होते है।
सच का मार्ग छोड़ देते है।

“तुम अपने क्रोध के लिए दंड नहीं पाओगे,
तुम अपने क्रोध द्वारा दंड पाओगे।”

“क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है;
इसमें आप ही जलते हैं।”

Final Words

Hope you liked this huge collection of 500+ Gautam Buddha Quotes In Hindi do share with your friends, family and loved ones, please share your thoughts about गौतम बुद्ध उद्धरण हिंदी में in the comments section below!

Leave a Comment