Evergreen bollywood dialogues

Bollywood dilogue

जोह माँ बाप की इज़्ज़त नहीं करते … उसकी दुनिया में कहीं पे भी इज़्ज़त नहीं होती
जीत हमेशा भगवान की होती है … शैतान की नहीं
जिसने जैसा बोया, उसने वैसा पाया
जिनके घर शीशे के होते हैं, वो बत्ती बुझा के कपडे बदलते हैं।

ज़िन्दगी तोह हर रोज़ जान लेती है … बम तोह सिर्फ एक बार लेगा
जिनके घर शीशे के होते हैं वे दूसरों के घरों में पत्थर नहीं फेंका करते
जिंदगी एक मिली है तो दो बार क्या सोचना…
जहांपना तुसी ग्रेट हो, तोहफा कुबूल करो…
जब लोग तुम्हारे खिलाफ बोलने लगे.. समझ लो तरक्की कर रहे हो।
जब बाप का जूता बेटे के पाऊँ में आ जाए … तोह वह बच्चा नहीं रहता।।
जब इंसान को अपनी गलतियों का अहसास होता है … तो भगवान भी उससे माफ़ कर देता है
जब आँख खुले तभी सवेरा है
छोड़ दो मुझे … भगवान के लिए छोड़ दो
घोडा घास से दोस्ती कर लेगा … तो खाएगा क्या?
ग़म के शिव … में तुम्हे कुछ भी नहीं दे सकता
खुशी जब हद से बढ़ जाती है तो ग़म बन जाती है
खुदा किसी को इतनी खुदाई न दे … कि अपने सिवा कुछ दिखाई न दे
कौन कमबख्त है जो बर्दाश्त करने के लिए पीता है, मैं तो पीता हूं कि बस सांस ले सकूं
कौन कमबख्त बर्दाश्त को लिए पीता है ? मैं तो पीता हूँ कि बस सांस ले सकूं।
कुत्ते कमीने मैं तेरा ख़ून पी जाऊंगा।
कुछ बातें ऐसी होती है जो कही नहीं जाती … सिर्फ समझी जाती है
किस्मत खराब हो तोह ऊंट पे बैठे आदमी को भी कुत्ता काट लेता है
कुछ पाने के लिए … कुछ खोना पड़ता है
कहने और करने में बड़ा फर्क होता है
कहते हैं अगर किसी चीज़ को दिल से चाहो तो पूरी कायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है।
एक हिंदुस्तानी नारी के लिए उसका पति ही उसका भगवन होता है
एक मच्छर आदमी को हिजड़ा बना देता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *